Wednesday, October 28, 2020

पॉलिटेक्निक में रैगिंग रोकने के नियम हुए सख्त, अब रैगिंग का नही है खतरा पढ़ाई में लगाये मन छात्र

हेलो दोस्तों आप सभी के लिए के अच्छी खबर आप सभी ने रैंगिंग के बारे में काफी कुछ सुना लेकिन दोस्तों अब आपको रैगिंग से डरने की कोई बात नही है क्योकि इससे रिलेटेड अब पॉलिटेक्निक में रैगिंग रोकने के नियम सख्त कर दिए गए है तो दोस्तों पोस्ट को पूरा जरुर पढ़े .....



जूनियरों को गाने गाने, डांस कराने और मुर्गा बनाने पर सीनियरों को संस्थान से नौ दो ग्यारह होना पड़ सकता। झांसी पॉलीटेक्निकल की घटना के बाद प्राविधिक शिक्षा निदेशायल बेहद गंभीर हो गया है और रैगिंग रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराने की तैयारियां की हैं। इसमें आरोपित छात्रों को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकेगा।

प्रदेश के संस्थानों में पहली नवंबर से प्रथम वर्ष के छात्रों की पढ़ाई शुरू हो जाएगी। यह संस्थागत होगी या फिर ऑनलाइन इसका फैसला शासन की ओर से लिया जाएगा। छात्र-छात्राएं पॉलीटेक्निक में आकर पढ़ाई करेंगे, इसके लिए तैयारियां तेज हो गई हैं। संस्थानों में कोविड प्रोटोकॉल के पालन के लिए प्रबंध किया जा रहा है। शारीरिक दूरी के पालन के लिए कक्षाओं के अंदर फेरबदल किया जा रहा है। पानी पीने से लेकर शौचालय और छात्रावासों की सुविधाएं बेहतर की जा रही हैं। ऐसे में जूनियर के संस्थान में आने पर सुरक्षा व्यवस्था चौक चौबंद की जा रही है। 

जूनियर छात्रों के संस्थान में आने पर रैगिंग का खतरा भी है। विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से सीनियर छात्रों द्वारा रैगिंग पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है। निदेशक मुकेश कुमार ने बताया कि बाहरी तत्वों को बिना वजह परिसर में आने और टहलने की मनाही रहेगी। छात्रों को अपने पास आइकार्ड रखने होंगे। रैगिंग में आरोपित छात्रों को संस्थान से निष्कासित किया जाएगा।

संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद ने कहा है कि पॉलीटेक्निक संस्थानों के डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में दाखिला लेने वाले प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राओं की पढ़ाई अब 15 नवंबर से शुरू होगी। अभी तक दो नवंबर की तिथि तय थी लेकिन संस्थानों की ओर से इसकी तैयारी न होने की वजह से यह बदलाव किया गया है।

पॉलीटेक्निक में बीते 15 अक्टूबर से ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड पर प्रथम वर्ष को छोड़कर कक्षाएं शुरू हो गई हैं। परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के निर्देशों के मुताबिक दो नवंबर से कक्षाएं शुरू करने की समय सारिणी तय थी।लेकिन अब इसमें बदलाव करते हुए 15 नवंबर कर दिया गया है। बरेली के एडमिशन कोआॢडनेटर नरेंद्र कुमार का कहना है कि कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुसार छात्र-छात्राओं के बैठने से लेकर सारी तैयारी की जाएगी। जिससे कक्षाएं नियमित रूप से चल सकें।


 

 

No comments:

Post a Comment