Wednesday, December 16, 2020

BTEUP Scrutiny Form 2020 Polytechnic Diploma Revaluation Form/Scuritiny Form

हेलो दोस्तों , रिजल्ट आने के बाद बहुत से ऐसे छात्र होते है की जिनके रिजल्ट में बैक लिखा आता है , और किसी का एक में , किसी का दो सब्जेक्ट्स में , किसी - किसी का तीन सब्जेक्ट में या फिर और अधिक सब्जेक्ट में पास विथ बैक पेपर लिखा आता है | या फिर तो बहुत से ऐसे छात्र होते है जिनके बहुत कम नंबर आ जाते है तो ऐसे में छात्र बहुत परेशान हो जाते है तब उन्हें एक रास्ता दिखता है Scrutiny form या Revaluation form भरने का . तो दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम जानेगें की स्क्रूटिनी फॉर्म या Revaluation form कैसे भरते है . साथ साथ में यह भी जानेगें की scrutiny फॉर्म क्या होता है ? और Revaluation form क्या होता है ? स्पेशल बैक पेपर क्या होता है ? और कब , कहा से और कैसे भरा जाता है .....

Steps To Fill Scrutiny / Revaluation Form

Registration For Scrutiny / Revaluation Form

स्क्रूटिनी / पुनर्मूल्यांकन का आवेदन Open करने के बाद छात्र / छात्राएं इच्छित विषय में स्क्रूटिनी / पुनर्मूल्यांकन चेक बॉक्स के माध्यम से चयनित  कर सकते हैं यदि कोई विषय आवेदन में प्रदर्शित नहीं हो रहा है और छात्र / छात्राएं इच्छित विषय में स्क्रूटिनी / पुनर्मूल्यांकन करना चाहते हैं तो आवेदन में नीचे उपलब्य Link ‘Add More Option’ के माध्यम से सुरक्षित कर आवेदन का प्रिंट ले लेंगे इस प्रक्रिया के 24 घंटे के बाद द्वितीय चरण Pay Fees Online के माध्यम से स्क्रूटिनी / पुनर्मूल्यांकन शुल्क का भुगतान कर सकते हैं ज्ञात है की किसी विषय में स्क्रूटिनी / पुनर्मूल्यांकन में से एक ही विकल्प को चयनित किया जा सकता है

Pay Fees Online

स्क्रूटिनी हेतु Rs. 60/- प्रति विषय एवं पुनर्मूल्यांकन हेतु Rs. 500/- प्रति विषय की धनराशि निर्धारित है Pay Fees Online विकल्प में अगले पेज पर Terms & Condition’s Dialouge Box में Click कर अगले पेज पर जायेंगे

अगले पेज Fees category में बोर्ड फीस चयनित कर एनरोलमेंट संख्या एवं जन्मतिथि सम्बंधित Text Box में डालकर Submit Button Click करेंगे | इसके बाद अगले पेज पर Provide Details Of Payment छात्र / छात्राएं अपना नाम, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर, इ मेल आईडी, इन्सर्ट करने के उपरांत Captcha में प्रदर्शित Text को इन्सर्ट कर Submit Button को क्लिक करेंगे

क्लिक  करने के बाद अगले पेज Verify Details And Confirm This Transaction पर पहुंचने के उपरांत सभी डिटेल को चेक कर यह सुनिश्चित कर लेंगे Transaction में प्रदर्शित हो रही जानकारी सही है Transaction में उपलब्ध जानकारी से संतुष्ट होने के बाद Confirm Button पर Click करेंगे

इसके बाद भुगतान के लिए अपना इच्छित माध्यम चयन करेंगे जो निम्न होंगे

  • Internet Banking ( SBI & Other bank)
  • Card Payment (SBI ATM cum Debit Card, Other Bank Admit Card & Credit Card)
  • Other Payment Mode (SBI Branch, NEFT/RTGS)
  • UPI

जिन छात्र / छात्राओं के पास Internet Banking, Debit Card & Credit card, NEFT/RTGS, UPI की सुविधा उपलब्ध नहीं है वो Payment Challan प्रिंट लेंगे | किसी भी SBI Branch में जाकर Payment Challan  के माध्यम से अपना शुल्क  जमा कर सकते हैं

After Fees Submission, Take Receipt Of  Payment

भुगतान करने के 24 घंटे के बाद आवेदन में उपस्थित तृतीया विकल्प After Fees Submission, Take Receipt Of  Payment के माध्यम से Payment Receipt का Print लेंगे | आवेदन एवं Payment Receipt के प्रिंट आउट को अपने प्रधानाचार्य को जमा करेंगे

 Important Links :-

 

Apply Scrutiny/Revaluation form
 Click Here
Print Receipt of Payment
Click Here
Official Website
Click Here

Video about Scrutiny Form/Revaluation Form/Special Back Paper Form :-

BTEUP Scrutiny Form 2020 for Even odd Semester Exams 2020 Check BTEUP Revaluation Form 2020 Online UPBTE Scrutiny Form For Incorrect Incomplete Result BTEUP Scrutiny Re-evaluation Polytechnic Diploma Revaluation Registration form BTEUP Even & Odd Semester December Scrutiny Form 2020

 

 

Monday, December 7, 2020

D Pharmacy Final year Result September 2020 / bteup d pharma result 2020 check it now

 Hello dear all friends, now a good news for those candidates who interested in D pharma because now D pharmacy 2nd year result declared . D pharma students were waiting their result from long  time so there is a good news now bteup declared d pharmacy 2nd year result declared you can check your result from given below links 




Latest Updated On 07.12.2020 : BTEUP D Pharma Promoted Candidates Result Is Released…Download Now through The link Given Below…..
So dear all friends now to be check you result you have just click on given below links



PHARMACY Final YEAR (September 2020) Result

 – Declared on 07.12.2020

Just click on for you Latest Result - Click Here

 



Sunday, December 6, 2020

URISE Portal Kya hai/bteup/polytechnic urise portal registration kaise kare

 

प्राविधिक शिक्षा विभाग, प्रशिक्षण सेवायोजना एवं कौशल विकास मिशन की संयुक्त परिकल्पना, Unified Reimagined Innovation for Student Empowerment अर्थात् यू-राईज है। इस परिकल्पना को तकनीकी शिक्षा विभाग के निर्देशन अन्र्तगत, मूर्त रूप प्रदान किया है- डा0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय ने।

इस पोर्टल के माध्यम से तकनीकी शिक्षा, आई0टी0आई0 एवं कौशल विकास से जुड़े हुए सभी छात्र, शिक्षक, प्रशिक्षक, रोजगार देने वाली संस्थाएँ न केवल एक ही स्थान पर जुड़े है अपितु छात्रों के छात्र जीवन-चक्र से जुड़ी हुई समस्त सुविधाएँ और सूचनाएँ भी यहाँ पर उपलब्ध हैं और इन उपलब्ध सुविधाओं और सूचनाओं के साथ छात्र न केवल अपने आप को सशक्त कर सकेंगे अपितु वे पूरे विश्व के साथ भी जुड़ सकेंगे...

यह पोर्टल न केवल तकनीकी एवं कौशल शिक्षा से जुड़े हुए लगभग 12 लाख छात्रों को पठन-पाठन और प्रशिक्षण को सशक्त करेगा अपितु छात्रों के उनके स्वप्न के अनुरूप उनके सुनहरे भविष्य के निर्माण में भी उपयोगी सिद्ध होगा।

यू-राईज के प्रथम चरण में इस पोर्टल पर पाॅलिटेक्निक, आई0टी0आई0 और कौशल विकास विभाग को जोड़ा गया है। दूसरे चरण में राज्य के सभी प्राविधिक विश्वविद्यालयों को भी इससे जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है।

URISE PORTAL VIDEO :-

 

The Directorate of Technical Education ensures a planned development of Technical Education in the state consistent with the  policies of state and the Nation. The department is committed to provide need based, quality technical education and professional human resources to the industry, business and community.

Following are the functions of Technical Education Department:

IRDT :

  • The Institute of Research Development and Training is the institute of the state for understanding training research and consultancy functions in the technical education.

Board of Technical Education :

  • To affiliate institutions and prescribe courses of study and conduct examinations.
  • To prescribe standards for buildings and equipments of affiliated institutions.
  • To prescribe educational qualifications for admission of students and standards for buildings and equipments to the affiliated institutions.
  • To prescribe the manner of admission of students to affiliated institutions.
  • To conduct and publish results of students' examinations and award diploma certificates to successful candidates.

JEECUP :

Joint Entrance Examination Council Uttar Pradesh (Polytechnic) conducts entrance exam for admission to Diploma courses of Engineering, Technology and Management.The candidates who qualify JEEUP exam will be called to participate in further admission events such as counselling and seat allotment.

There are currently 1326 institutes functioning in U.P., out of which 147 are government, 19 are government-aided, 05 are other department institutes and 1155 are private institutes providing technical education in over 53 branches to more than 2.5 Lacs students.

 

छात्र सेवाएं

पंजीकरण

यू-राइज में पंजीकरण के पश्चात, छात्र इस पोर्टल का आजीवन सदस्य बन जाएगा और यू-राइज का उपयोग वह जीवन पर्यन्त कर सकेगा। इसके अलावा, सत्यापित और सुरक्षित अकादमिक क्रेडेंशियल्स को स्वचालित रूप से तृतीया पक्ष यथा बैंक, संभावित संस्थानों इत्यादि के उपयोग के लिए उपलब्ध कराया जायेगा।

और देखो

डैशबोर्ड

छात्र को एआई आधारित डैशबोर्ड मिलेगा जो उपयोगी पाठ्यक्रमों, ई-सामग्री के तत्काल सारांश और नवीनतम प्लेसमेंट सूचनाओं को उपलब्ध कराएगा।

और देखो
 

ई-सामग्री

सर्वश्रेष्ठ विशेषज्ञों द्वारा तैयार किये लैक्चर, टुटोरिअल, प्रश्न बैंक उपलब्ध कराये जायेंगे | यदि एक पुस्तक तुरंत उपलब्ध नहीं है (जैसा कि सभी प्रतियां अन्य छात्रों को जारी की गई हैं), वंहा छात्र अस्थायी उपलब्ध तिथियों की जांच कर सकते हैं और तदनुसार अपने अध्ययन की योजना बना सकते हैं।

और देखो

उपस्थिति

संस्थानों के संकाएँ छात्रों की उपस्थिति प्रतिदिन लगाएंगे| यह उपस्थिति छात्रों को भी देखने के लिए उपलब्ध होगी और आवश्यकता अनुसार छात्र संभावित संकाय से त्रुटि निवारण के लिए अनुरोध कर सकते हैं |

और देखो

ऑनलाइन कक्षाएं

COVID-19 जैसी भयावह स्थितियों में छात्रों के लिए नियमित कक्षाएं आयोजित करना बहुत जोखिम भरा है और कई बार तो सरकार ऐसी स्थितियों में इसके लिए अनुमति भी नहीं प्रदान करती| ऐसे समय में छात्र, अध्यापकों द्वारा अपलोड किए गए ऑनलाइन लेक्चर्स और ट्यूटोरियल के माध्यम से अपना अध्ययन जारी रख सकते हैं| नियमित कक्षाओं में छात्रों के लिए सिर्फ़ अपने कॉलेज के अध्यापकों के व्याख्यान उपलब्ध होते हैं| किन्तु यहाँ न केवल अपने कॉलेज के अपितु दूसरे कॉलेज के अध्यापकों के व्याख्यान भी उनके लिए उपलब्ध रहेंगे|

और देखो

प्रदर्शन

कौशल विकास के छात्रों का कई महीने और पॉलिटेक्निक व आईटीआई के छात्रों का कई वर्षों का शैक्षिक कॅरियर होता है| ऐसे में उनके कॅरियर की निगरानी की सुविधा भी इस पोर्टल पर प्रदान की गयी है| जिसे ‘वन व्यू’ के माध्यम से छात्रों के साथ उनके माता-पिता भी देख सकते हैं| इस वन व्यू सुविधा का लाभ वे संस्थाएं भी उठा सकती हैं, जहां पर छात्र नौकरी के लिए ख़ुद को पंजीकृत करते हैं|

और देखो

शिकायत

छात्रों को संस्थान, अध्यापकों या संस्थान के प्रशासन के साथ किसी भी तरह की समस्या हो सकती है| ऐसे में वे पोर्टल के माध्यम से अपनी शिकायते दर्ज करवा सकते हैं| जिन्हें निर्धारित समयावधि में हल किया जाएगा| इस सेक्शन का पर्यवेक्षण शासन से लेकर मुख्यालय तक के अधिकारी करेंगे| सभी शिकायतों का समयबद्ध निस्तारण करना संस्थान / कमेटी की जिम्मेदारी होगी| इससे व्यवस्था को पारदर्शी बनाने में तथा बेहतर सुविधा देने में मदद मिलेगी|

और देखो

शुल्क Coming Soon...

छात्र नेट बैंकिंग की सुविधा का इस्तेमाल कर अपना किसी भी प्रकार का शुल्क जैसे- परीक्षा, पंजीकरण या पुनर्मूल्यांकन शुल्क इत्यादि पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन जमा कर सकते हैं| यदि किसी छात्र के पास क्रेडिट या डेबिट कार्ड नहीं है और वह नेट बैंकिंग की सुविधा का इस्तेमाल नहीं करता है तो वह ऑनलाइन चालान जनरेट करके बैंक की किसी भी शाखा में जाकर शुल्क जमा कर सकता है|

और देखो

डिजी लॉकर

छात्रों के सभी शैक्षणिक दस्तावेज जैसे – डिप्लोमा, सर्टीफिकेट और मार्कशीट इत्यादि को डिजी लॉकर में सहेजा जा सकता है| जिसे कहीं से और कभी भी एक्सेस किया जा सकता है| डिजी लॉकर में सहेजे गये दस्तावेजों को मूल दस्तावेज ही माना जाता है| इससे छात्रों को मूल दस्तावेज हमेशा अपने साथ रखने की जरूरत नहीं होती है और उनके मूल दस्तावेज पूरी तरह सुरक्षित रहते हैं|

और देखो
प्रतिपुष्टि छात्र अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रिया दे सकते हैं जो यू-राइज को अपनी सेवाओं को बेहतर बनाने में मदद करेगा।
 
To be know more just Click -  Click Here

 

 

 

 

 

 

Wednesday, December 2, 2020

BTEUP/POLYTECHNIC REVISED SYLLABUS FOR FIRST SEMESTER SESSION (2020-2021)

 Hello dear all friends, now a good news for those candidates who interested bteup because now Board of Technical Education Uttar pradesh released revised syllabus for first Semester Session (2020-2021) so interested candidates now check you latest syllabus form given below links ....


 

102 - TWO SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN BIOTECHNOLOGY (TISSUE CULTURE)
104 - TWO SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN TEXTILE DESIGN
109 - TWO SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN BEAUTY AND HEALTH CARE
110 - TWO SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN FASHION TECHNOLOGY
111 - TWO SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN RETAIL MANAGEMENT
112 - TWO SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN ACOUNTANCY(WITH COMPUTRISEDACOUNTS & TAXATION)
113 - TWO SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN WEB DESIGNING
114 - TWO SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN COMPUTER HARDWARE & NETWORKING
202 - FOUR SEMESTER POST GRADUATE DIPLOMA COURSE IN COMPUTER APPLICATION
316-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN AGRICULTURAL ENGINEERING
318-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN ARCHITECTURAL ASSISTANTSHIP
319-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN GLASS AND CERAMIC ENGINEERING
320-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN CHEMICAL TECHNOLOGY(FERTILIZER)
321-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN CHEMICAL TECHNOLOGY(RUBBER AND PLASTIC)
334-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN ELECTRICAL AND ELECTRONICS ENGINEERING
339-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN INTERIOR DECORATION AND DESIGN
353-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN CHEMICAL ENGINEERING(PETROCHEMICAL)
357-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN PAINT TECHNOLOGY
358-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN PLASTIC MOULD TECHNOLOGY
361-SIX SEMESTER DIPLOMA COURSE IN ELECTRONICS AND COMMUNICATION ENGINEERING

Sunday, November 1, 2020

उत्तर प्रदेश विधवा पेंशन योजना ऑनलाइन आवेदन

 प्यारे उत्तर प्रदेश वासियों आप सभी के लिए अच्छी खबर है क्योंकि उत्तर प्रदेश सरकार ने विधवाओं के लिए पेंशन की शुरुआत की है उत्तर प्रदेश सरकार का मानना है कि पति की मृत्यु के बाद औरतें बेसहारा हो जाते हैं और उनको दर-दर भटकना पड़ता है ऐसा ना हो इसलिए उनकी समस्या को दूर करने के लिए सरकार ने यूपी विधवा पेंशन योजना की शुरुआत की है जिसका पूरा पूरा लाभ विधवाओं को दिया जाएगा|

पति की मृत्यु के बाद निराश्रित महिला पेंशन (विधवा पेंशन) प्राप्त कर रही महिलाओं की पेंशन राशि  500 रुपये प्रतिमाह कर दी गई है|

यूपी विधवा पेंशन स्कीम पात्रता 

  •  महिला इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकती है|
  • महिला जिक्सी उम्र अठारह साल से 60 साल के बीच हो|
  • गरीबी रेखा से नीचे महिला इस योजना का ऑनलाइन आवेदन फॉर्म भर सकती है|
  • जिसने अपनी दूसरी शादी नही की हो वो यह फॉर्म भर सकती है|
  • जिस महिला को शाष्कीय सहायता प्राप्त नही हो वो भी यह फॉर्म भर सकती है| 

उत्तर प्रदेश विधवा पेंशन योजना जरूरी कागजात

  • आवेदनकर्ता के पास आधार कार्ड होना चाहिए |
  • वोटर कार्ड होना चाहिए|
  • पासपोर्ट साइज फोटो|
  • बर्थ सर्टिफिकेट|
  • पति की मृत्यु का प्रमाण पत्र |
  • उत्तर प्रदेश का बोनाफाइड|

उत्तर प्रदेश विधवा पेंशन योजना ऑनलाइन आवेदन

 
  • जो भी आवेदनकर्ता आवेदन करना चाहता है उसको यहां पर दिए गए वेबसाइट पर जाना होगा |
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपको ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म का लिंक दिखाई देगा |
  • उस लिंक पर क्लिक करें क्लिक करते ही आपका एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड हो जाएगा |
  • उस एप्लीकेशन फॉर्म में अपनी पूरी जानकारी भरें|
  • परंतु ध्यान दीजिए जो भी जानकारी आप भर रहे हो बिल्कुल सही होनी चाहिए |
  • यदि इसमें कोई त्रुटि होती है तो आपका फॉर्म रद्द हो जाएगा|
  • सबमिट बटन पर क्लिक करें |
  • आपका फॉर्म भर चुका है|

उत्तर प्रदेश विधवा पेंशन योजना राशि


  • हम आपको यहां पर बता दे प्रत्येक महिला को हर महीने ₹500 दिए जाएंगे |
  • हो सकता है सरकार की तरफ से यह पैसे बढ़ा दिए जाए|

 उत्तर प्रदेश विधवा पेंशन योजना सूची

दोस्तों आप यहां पर क्लिक करके भी उत्तर प्रदेश विधवा पेंशन सूची को प्राप्त     कर सकते हैं|

उत्तर प्रदेश विधवा पेंशन एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड


Important Links :-

Apply Online
Click Here
List of Pensioner
Click Here
Notification
Click Here
Application form download
Click Here

दोस्तों यदि आप उत्तर प्रदेश विधवा पेंशन योजना से संबंधित कोई जानकारी पूछना चाहते हैं जो आपको समझ में ना आ रही हो तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे कृपया हमारे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर करना ना भूले|

 

Friday, October 30, 2020

पॉलिटेक्निक के बाद कैरियर / Career after Polytechnic

 

पॉलिटेक्निक डिप्लोमा एक तकनीकी डिग्री है जो आपको अपने दम पर एक अच्छी नौकरी दिला सकती है।
 हालांकि, अधिक विविध कैरियर के अवसरों को जीतने के लिए और उच्च स्तर की नौकरियों, स्नातक या 
आगे की पढ़ाई के लिए योग्य होना चाहिए। इसके अलावा, आपके पॉलिटेक्निक डिप्लोमा के दौरान, आपको 
केवल व्यावहारिक प्रशिक्षण के साथ-साथ अपने संबंधित अध्ययन डोमेन के मूलभूत पहलुओं से परिचित कराया
 जाता है। यह प्रशिक्षण आपके लिए जूनियर स्तर की नौकरियों को शुरू करने या जल्दी शुरू करने के लिए
 पर्याप्त हो सकता है, लेकिन वे आपको आवश्यक पदोन्नति प्राप्त करने या उच्च स्तर की नौकरियों के लिए योग्य
 बनाने में आपकी मदद नहीं करेंगे। इसलिए, आगे के अध्ययन आपको सैद्धांतिक और व्यावहारिक दोनों स्तरों
 पर अपने संबंधित डोमेन के गहन ज्ञान प्राप्त करने में मदद करेंगे और बदले में आपको उच्च स्तर की नौकरियों 
को लक्षित करने में मदद करेंगे। 

बीटेक लेटरल एंट्री स्कीम :-

पॉलिटेक्निक डिप्लोमा धारकों के लिए सबसे लोकप्रिय विकल्प, विशेष रूप से इंजीनियरिंग डोमेन से, बी.टेक या 
बी.ई. इसके लिए, उम्मीदवारों को कॉलेज के लिए संबंधित इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा के लिए उपस्थित होना होगा
 और वे इसमें शामिल होना चाहते हैं। कई इंजीनियरिंग कॉलेज इंजीनियरिंग डिप्लोमा धारकों को लेटरल एंट्री 
देते हैं। लेटरल एंट्री का मतलब है कि आप इंजीनियरिंग प्रोग्राम में सीधे दूसरे वर्ष या बीटेक / बी.ई. के तीसरे
 सेमेस्टर में शामिल हो सकते हैं। कार्यक्रम। कई कॉलेज पार्श्व प्रवेश योजना के माध्यम से प्रवेश के लिए स्क्रीन
 डिप्लोमा धारकों के लिए अलग प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं। 
 
रोजगार के अवसर :-

पॉलिटेक्निक डिप्लोमा पाठ्यक्रम को सही मायने में कई छात्रों द्वारा पेशेवर कैरियर के लिए शॉर्ट-कट कहा जाता है, 
क्योंकि वे छात्रों को उत्कृष्ट गुंजाइश और विविध कैरियर के अवसर प्रदान करते हैं। कक्षा 10 के छात्रों के लिए, 
जो वित्तीय कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं या जो लोग अपना नौकरी कैरियर जल्दी शुरू करना चाहते हैं, 
पॉलिटेक्निक कई कैरियर विकल्प प्रदान करता है जो रोमांचक और आकर्षक हैं। वे पीएसयू नौकरियों के माध्यम से
 सरकारी सेवा क्षेत्र में शामिल होने का विकल्प चुन सकते हैं, निजी कंपनियों के साथ नौकरी कर सकते हैं या अपना 
खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं और स्व-रोजगार कर सकते हैं। तो, आइए उन प्रमुख जॉब करियर विकल्पों पर नज़र
 डालें जो एक पॉलिटेक्निक डिप्लोमा धारक कोर्स पूरा करने के बाद कर सकते हैं।

1. सार्वजनिक क्षेत्र / सार्वजनिक उपक्रम

सरकार या उनकी संबद्ध सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयां पॉलिटेक्निक डिप्लोमा धारकों के लिए कैरियर के महान अवसर प्रदान
 करती हैं। ये कंपनियां जूनियर स्तर के पदों (इंजीनियरिंग और गैर-इंजीनियरिंग दोनों उम्मीदवारों के लिए) और तकनीशियन
 स्तर की नौकरियों के लिए डिप्लोमा धारकों को नियुक्त करती हैं।

 

Top Companies hiring Polytechnic Diploma Graduates

  • Railways
  • Indian Army
  • GAIL – Gas Authority of India Limited
  • ONGC – Oil & Natural Gas Corporation
  • DRDO – Defence Research and Development Organization
  • BHEL – Bharat Heavy Electricals Limited
  • NTPC – National Thermal Power Corporation
  • Public Work Departments
  • BSNL – Bharat Sanchar Nigam Limited
  • Infrastructure Development Agencies
  • NSSO – National Sample Survey Organization
  • IPCL – Indian Petro Chemicals Limited
2. निजी क्षेत्र

सार्वजनिक क्षेत्र के समान, यहां तक ​​कि निजी क्षेत्र की कंपनियां, विशेष रूप से विनिर्माण, निर्माण और इलेक्ट्रॉनिक्स और 
संचार डोमेन में काम करने वाले लोग पॉलिटेक्निक डिप्लोमा धारकों को नियुक्त करते हैं। हालांकि, ये नौकरियां जूनियर 
स्तर की हैं और इसमें पदोन्नति या विस्तार की बहुत कम गुंजाइश है।

 

Top private sector companies hiring Polytechnic Diploma Holders

  • Airlines - Indigo, Spicejet, Jet Airways, etc.
  • Construction Firms – Unitech, DLF, Jaypee Associated, GMR Infra, Mitas, etc.
  • Communication Firms – Bharti Airtel, Reliance Communications, Idea Cellular, etc.
  • Computer Engineering Firms – TCS, HCL, Wipro, Polaris, etc.
  • Automobiles – Maruti Suzuki, Toyota, TATA Motors, Mahindra, Bajaj Auto, etc.
  • Electrical / Power Firms – Tata Power, BSES, Seimens, L&T, etc.
  • Mechanical Engg Firms – Hindustan Unilever, ACC Ltd, Voltas, etc

 

 

3. स्वरोजगार

पॉलिटेक्निक डिप्लोमा धारकों के लिए एक और उत्कृष्ट कैरियर विकल्प स्वरोजगार है। पॉलिटेक्निक संस्थानों द्वारा प्रस्तावित सभी डिप्लोमा 
पाठ्यक्रम विशेष रूप से संबंधित विषय के व्यावहारिक या अनुप्रयोग-उन्मुख पहलुओं में छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए तैयार किए जाते हैं। 
यह छात्रों को विषय की मूल बातें जानने के लिए तैयार करता है और इसे अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए लागू करता है। उदाहरण के लिए,
 कंप्यूटर इंजीनियरिंग में डिप्लोमा रखने वाला छात्र आसानी से कंप्यूटर की मरम्मत के लिए व्यवसाय शुरू कर सकता है; या ऑटोमोबाइल 
इंजीनियरिंग में डिप्लोमा रखने वाला कोई व्यक्ति अपना गैरेज या ऑटोमोबाइल रिपेयर स्टोर शुरू कर सकता है। इसलिए, पॉलिटेक्निक डिप्लोमा 
पाठ्यक्रम भी छात्रों को बड़े स्वरोजगार के अवसर प्रदान करते हैं।



Thursday, October 29, 2020

पॉलिटेक्निक में रैगिंग रोकने के नियम हुए सख्त, अब रैगिंग का नही है खतरा पढ़ाई में लगाये मन छात्र

हेलो दोस्तों आप सभी के लिए के अच्छी खबर आप सभी ने रैंगिंग के बारे में काफी कुछ सुना लेकिन दोस्तों अब आपको रैगिंग से डरने की कोई बात नही है क्योकि इससे रिलेटेड अब पॉलिटेक्निक में रैगिंग रोकने के नियम सख्त कर दिए गए है तो दोस्तों पोस्ट को पूरा जरुर पढ़े .....



जूनियरों को गाने गाने, डांस कराने और मुर्गा बनाने पर सीनियरों को संस्थान से नौ दो ग्यारह होना पड़ सकता। झांसी पॉलीटेक्निकल की घटना के बाद प्राविधिक शिक्षा निदेशायल बेहद गंभीर हो गया है और रैगिंग रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराने की तैयारियां की हैं। इसमें आरोपित छात्रों को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकेगा।

प्रदेश के संस्थानों में पहली नवंबर से प्रथम वर्ष के छात्रों की पढ़ाई शुरू हो जाएगी। यह संस्थागत होगी या फिर ऑनलाइन इसका फैसला शासन की ओर से लिया जाएगा। छात्र-छात्राएं पॉलीटेक्निक में आकर पढ़ाई करेंगे, इसके लिए तैयारियां तेज हो गई हैं। संस्थानों में कोविड प्रोटोकॉल के पालन के लिए प्रबंध किया जा रहा है। शारीरिक दूरी के पालन के लिए कक्षाओं के अंदर फेरबदल किया जा रहा है। पानी पीने से लेकर शौचालय और छात्रावासों की सुविधाएं बेहतर की जा रही हैं। ऐसे में जूनियर के संस्थान में आने पर सुरक्षा व्यवस्था चौक चौबंद की जा रही है। 

जूनियर छात्रों के संस्थान में आने पर रैगिंग का खतरा भी है। विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से सीनियर छात्रों द्वारा रैगिंग पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है। निदेशक मुकेश कुमार ने बताया कि बाहरी तत्वों को बिना वजह परिसर में आने और टहलने की मनाही रहेगी। छात्रों को अपने पास आइकार्ड रखने होंगे। रैगिंग में आरोपित छात्रों को संस्थान से निष्कासित किया जाएगा।

संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद ने कहा है कि पॉलीटेक्निक संस्थानों के डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में दाखिला लेने वाले प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राओं की पढ़ाई अब 15 नवंबर से शुरू होगी। अभी तक दो नवंबर की तिथि तय थी लेकिन संस्थानों की ओर से इसकी तैयारी न होने की वजह से यह बदलाव किया गया है।

पॉलीटेक्निक में बीते 15 अक्टूबर से ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड पर प्रथम वर्ष को छोड़कर कक्षाएं शुरू हो गई हैं। परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के निर्देशों के मुताबिक दो नवंबर से कक्षाएं शुरू करने की समय सारिणी तय थी।लेकिन अब इसमें बदलाव करते हुए 15 नवंबर कर दिया गया है। बरेली के एडमिशन कोआॢडनेटर नरेंद्र कुमार का कहना है कि कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुसार छात्र-छात्राओं के बैठने से लेकर सारी तैयारी की जाएगी। जिससे कक्षाएं नियमित रूप से चल सकें।


 

 

BTEUP/Polytechnic की नई अपडेट - पॉलीटेक्निक के नए बैच की पढ़ाई 15 नवंबर से

हेलो दोस्तों आप सभी के लिए फिर से पॉलिटेक्निक की एक बड़ी अपडेट , जी हा जो की पॉलिटेक्निक के प्रथम वर्ष के छात्रों के लिए बहुत जरुरी ।पॉलिटेक्निक के प्रथम वर्ष के छात्रों को काफी दिनों से उनके क्लासेज का इंतजार है की कबसे उनकी कक्षाए चलेगी क्योकि एडमिशन के बाद से वे बैठ बस अपने पढाई के इंतजार में है... 



संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद ने कहा है कि पॉलीटेक्निक संस्थानों के डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में दाखिला लेने वाले प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राओं की पढ़ाई अब 15 नवंबर से शुरू होगी। अभी तक दो नवंबर की तिथि तय थी लेकिन संस्थानों की ओर से इसकी तैयारी न होने की वजह से यह बदलाव किया गया है।

पॉलीटेक्निक में बीते 15 अक्टूबर से ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड पर प्रथम वर्ष को छोड़कर कक्षाएं शुरू हो गई हैं। परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के निर्देशों के मुताबिक दो नवंबर से कक्षाएं शुरू करने की समय सारिणी तय थी।लेकिन अब इसमें बदलाव करते हुए 15 नवंबर कर दिया गया है। बरेली के एडमिशन कोआॢडनेटर नरेंद्र कुमार का कहना है कि कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुसार छात्र-छात्राओं के बैठने से लेकर सारी तैयारी की जाएगी। जिससे कक्षाएं नियमित रूप से चल सकें।

परिषद के सचिव के मुताबिक कई संस्थानों से शिकायतें मिली हैं कि पहले, दूसरे और तीसरे चरण में कई अभ्यॢथयों ने अपना प्रोविनल लेटर डाउनलोड नहीं किया। वह सीधे आवंटित संस्थान में प्रवेश लेने पहुंच गए। जिसकी वजह से उन्हे वापस कर दिया गया। अब चौथे चरण की काउंसिलिंग चल रही है। जिसकी वजह से उनके प्रोविनल लेटर नहीं डाउनलोड हो पाएंगे। इसलिए संस्थानों को निर्देश दिए हैं कि जिन अभ्यॢथयों के नाम संस्थाओं के पीआइ मॉड्यूल पर हैं, उनके प्रवेश ले लें। जिन्होंने विथड्रॉल फार्म काउंसिलिंग का ऑनलाइन विकल्प चुनकर प्रवेश निरस्त करा लिया, उन्हेंं शामिल नहीं किया जाएगा।

 

रैगिंग को रोकने के लिए बने सख्त नियम - Click Here

Wednesday, October 28, 2020

Heating Effect of Electric Current/विद्युत् धारा का उष्मीय प्रभाव

विद्युत् धारा का उष्मीय प्रभाव

जब किसी विद्युत उपकरण को उपयोग में लाने हेतु विद्युत श्रोत से जोड़ा जाता है, तो उसमें विद्युत धारा अर्थात इलेक्ट्रॉन प्रवाहित होने लगती है। उपकरण को कार्य करने के लिये लगातार विद्युत उर्जा के आपूर्ति की आवश्यकता होती है।

विद्युत धारा बनाए रखने में, खर्च हुई श्रोत की उर्जा का कुछ भाग उपयोगी कार्य करने, जैसे पंखे के ब्लेड को घुमाने आदि, में उपयोग होता है तथा उर्जा का शेष भाग उष्मा उत्पन्न करने में खर्च होता है, जो उपकरण की ताप में बृद्धि करता है। उदारण के लिय जब कोई विद्युत पंखा थोड़ी देर चलता है तो वह गर्म हो जाता है।

विद्युत उर्जा का उपयोग सीधे तौर पर नहीं किया जा सकता है, बल्कि विद्युत उर्जा के उपयोग के लिये या तो उसे यांत्रिकी उर्जा या प्रकाश उर्जा या उष्मा उर्जा में बदलना होता है।

             अत: विद्युत उर्जा का उष्मा उर्जा में परिवर्तन विद्युत का तापीय प्रभाव कहलाता है।


जूल का तापन नियम (Joule's Law of Heating)

मान लिया कि विद्युत धारा

प्रतिरोधक

से प्रवाहित किया जाता है।

मान लिया कि प्रतिरोधक के दोनों सिरों के बीच विभवांतर

मान लिया कि विद्युत आवेश

प्रतिरोधक से

समय तक प्रवाहित होता है।

अत: विद्युत आवेश

का विभवांतर से प्रवाहित होने में किया जाने वाला कार्य

अत: श्रोत को

समय में

उर्जा की आपूर्ति आवश्यक है।

अत: श्रोत द्वार परिपथ में निवेशित शक्ति

[∵

]

चूँकि श्रोत द्वारा

समय में उर्जा की आपूर्ति की जाती है।

अत:, `P xx t = VI xx t

अत: किसी स्थायी विद्युत द्जारा

द्वारा समय में उत्पन्न उष्मा की मात्रा

------- (i)

ओम के नियम के अनुसार,

अत: समीकरण (i) में

रखने पर, हम पाते हैं कि

--------(ii)

जहाँ,

उत्पन्न उष्मा (ताप)

विद्युत धारा

प्रतिरोधक का प्रतिरोध

तथा समय

ब्यंजक (ii) जूल का तापन नियम कहते हैं।

अत: जूल के तापन नियम के अनुसार किसी प्रतिरोधक में उत्पन्न होने वाली उष्मा

(i) दिये गए प्रतिरोधक में प्रवाहित होने वाली विद्युत धारा के वर्ग के अनुक्रमानुपाती,

(ii) दी गयी विद्युत धारा के लिये प्रतिरोध के अनुक्रमानुपाती, तथा

(iii) उस समय के अनुक्रमानुपाती होती है जिसके लिये दिये गए प्रतिरोध से विद्युत धारा प्रवाहित होती है। 

 

अतः                      

                                                               

व्यहारिक परिस्थितियों में विद्युत धारा का तापीय प्रभाव

जब विद्युत धारा को परिपथ में प्रवाहित किया जाता है, तो विद्युत उर्जा का कुछ भाग ताप को उत्पन्न करने में खर्च हो जाता है। किसी चालक में विद्युत धारा के प्रवाहित होने पर ताप का उत्पन्न होना अवश्यंभावी परिणाम है। परंतु इस उत्पन्न होने वाले ताप का उपयोग बहुत सारे कार्यों में किया जाता है।

विद्युत बल्ब (Electric Bulb)

बल्ब में विद्युत धारा को एक चालक, जिसे तंतु (Filament) कहते हैं, में प्रवाहित किया जाता है। बल्ब का तंतु एक प्रतिरोध की तरह कार्य करता है, तथा आपूर्ति की गई विद्युत धारा को उष्मा में परिवर्तित कर देता है। उष्मा के कारण फिलामेंट ला हो जाता है। बल्ब में एक अक्रिय गैस प्राय: आर्गन या अक्रिय नाइट्रोजन भरा रहता है, जो कि तंतु को जलने से बचाता है। लाल गर्म हो जाने के बाद बल्ब में लगा फिलामेंट प्रकाश उत्पन्न करता है।

बल्ब का फिलामेंट वैसे धातु का बना होता है जिसका गलनांका काफी उच्च होता है। प्राय: बल्ब के फिलामेंट में टंगस्टन का उपयोग किया जाता है, जिसका गलनांक लगभग 33800 C के करीब होता है।

विद्युत इस्तरी (Electric Iron)

विद्युत इस्तरी में धातु का एक रॉड या कॉयल लगा होता है, जिसका गलनांक काफी उच्च होता है, तथा इसे एलीमेंट कहा जाता है। जब विद्युत धारा विद्युत इस्तरी में लगे एलीमेंट में प्रवाहित कराया जाता है, तो यह गर्म होकर उष्मा उत्पन्न करता है जो विद्युत इस्तरी में लगे धातु के प्लेट को गर्म कर देता है। विद्युत इस्तरी का उपयोग कपड़ों से सिल्वट हटाने के काम आता है।

विद्युत हीटर (Electric heater)

विद्युत इस्तरी की तरह ही विद्युत हीटर में धातु का कॉयल या फिलामेंट लगा होता है, जिसका गलनांक काफी उच्च होता है। जब हीटर के कॉयल या फिलामेंट से विद्युत धारा प्रवाहित कराया जाता है, तो यह गर्म होकर उष्मा उत्सर्जित करता है। विद्युत हीटर का उपयोग जाड़े के मौसम में ठंढ़ से राहत पाने के लिये किया जाता है।

विद्युत इस्तरी, विद्युत हीटर, विद्युत वाटर हीटर आदि के एलीमेंट में प्राय: निक्रोम का उपयोग किया जाता है, जो निकेल तथा क्रोमियम का एक मिश्रातु है।

विद्युत फ्यूज (Electric Fuse)

विद्युत फ्यूज एक उपकरण है, जिसे घरों में उच्च विद्युत धार प्रवाहित होने की स्थिति में सुरक्षा के लिये उपयोग में लाया जाता है।

फ्यूज किसी ऐसे धातु अथवा मिश्रातु के तार का टुकड़ा होता है जिसका गलनांक उचित हो, यथा ऐल्युमिनियम, कॉपर, आयरन, लेड आदि। विद्युत फ्यूज को युक्ति के साथ श्रेणीक्रम में संयोजित किया जाता है। यदि परिपथ में किसी निर्दिष्ट मान से अधिक मान की विद्युत धारा प्रवाहित होती है, तो फ्यूज के तार के ताप में बृद्धि होती है, तथा फ्यूज तार पिघल जाता है और परिपथ टूट जाता है और परिपथ में संयोजित उपकरण जलने तथा खराब होने से सुरक्षित रहता है।

फ्यूज तार प्राय: धातु के सिरे वाले पोर्सेलेन अथवा इसी प्रकार के विद्युतरोधी पदार्थ के कार्ट्रिज में रखा जाता है, तथा फ्यूज को श्रेणीक्रम में संयोजित किया जाता है।

घरेलू परिपथ में उपयोग होने वाली फ्यूज की अनुमत विद्युत धारा 1 A, 2 A, 3 A, 5 A, and 10 A, आदि होती है।

उदारण: एक विद्युत इस्तरी, जो

की विद्युत शक्ति उस समय उपभुक्त करती है, जब उसे पर प्रचालित करते हैं। इस विद्युत इस्तरी के परिपथ में

की विद्युत धारा प्रवाहित होती है।

अत: इस स्थिति में

अनुमतांक का फ्यूज उपयोग किया जाना चाहिए।

हेयर ड्रायर, टोस्टर, आदि अन्य उपकरण हैं, जो विद्युत धारा के तापीय प्रभाव के नियमानुसार कार्य करते हैं।

विद्युत शक्ति (Electric Power)

विद्युत भी उर्जा का एक प्रकार है। अन्य उर्जा की तरह ही विद्युत भी कार्य करने की शक्ति है।

जब विद्युत धारा किसी चालक दे द्वारा प्रवाहित होती है, तो कुछ कार्य होता है।

विद्युत धारा के द्वारा कार्य होने की दर विद्युत शक्ति कहलाती है।

अर्थात " एकांक समय में व्यय विद्युत उर्जा की दर को विद्युत शक्ति कहते हैं। " विद्युत शक्ति को अंग्रेजी के अक्षर

द्वारा निरूपित किया जाता है।

यदि

समय में

कार्य होता है, तो

विद्युत शक्ति (Electric power),

मान लिया कि विद्युत धारा

के समय तक प्रवाहित होने से कार्य होता है। तथा मान लिया कि इस कार्य के होने के समय विभवांतर

है।

अत:

जूल 

विद्युत शक्ति की SI मात्रक (SI unit of electrical power)

विद्युत शकित की SI मात्रक 'वॉट (watt)' है, तथा इसे 'W' के द्वारा निरूपित किया जाता है।

चूँकि विद्युत उर्जा, शक्ति तथा समय का गुणनफल है।

अत: विद्युत उर्जा की मात्रक 'watt hour'.

Watt hour को "Wh" लिखा जाता है।

1 घंटे में क्षयित 1 वॉट उर्जा

विद्युत उर्जा की व्यवसायिक मात्रक किलोवॉट घंटा (kilowatt hour)

किलोवॉट घंटा (kilowatt hour) को "kW h" लिखा जाता है।

1kW h = 1000 वॉट x 3600 सेकेंड

= 3.6 x 10 6 वॉट सेकेंड

= 3.6 x 10 6 जूल (J)

विद्युत उर्जा की व्यवसायिक मात्रक (kW h) को प्राय: यूनिट (unit) कहा जाता है।